भाववाचक संज्ञा (परिभाषा, नियम एवं उदाहरण) Bhav Vachak Sangya

Bhav Vachak Sangya In Hindi: इस पोस्ट मे आपको bhav vachak sangya ki paribhasha udaharan sahit dijiye तथा Bhav Vachak Sangya Ke Udaharan के बारे मे सारी जानकारी दी गई है। इसी के साथ भाववाचक संज्ञा किसे कहते है? इसकी भी पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट मे दी गई है।

आप मे से कई लोग को Bhav Vachak Sangya की जानकारी प्राप्त करना होता है, तो आप गुगल मे इसके बारे मे सर्च करते है तो मैने यह पोस्ट तैयार की है। जिससे की आपको बाद मे कोई परेशानी न हो तथा आपको इसकी जानकारी हमेशा रहे।

Bhav Vachak Sangya In Hindi Paribhasha udahran

Bhav Vachak Sangya Kise Kahate Hain

भाववाचक संज्ञा परिभाषा – जिन संज्ञा शब्दो से किसी वस्तु के भाव, गुण, दशा या फिर अवस्था आदि का बोध होता है, उसे ही भाववाचक संज्ञा कहते है। इसे Abstract Noun भी कहते है।

इससे आप इस तरह भी समझ सकते है कि, जिस चीज़ को छू न सके पर उसके होने का बोध हो या फिर महसूस हो तो वह सबकुछ भाववाचक संज्ञा के अन्तर्गत आता है। जैसे –

  • अवस्था के अस्थ में – जवानी, बुढ़ापा, लड़कपन, बचपन इत्यादि।
  • गुण के अर्थ – सुन्दरता, बुद्धिमत्ता, कुशाग्रता आदि।
  • दशा के अर्थ – उन्नति, चढ़ाई, अवनति, ढलान, इत्यादि।
  • भाव के अर्थ – शत्रुता, कृपणता, मित्रता, दोस्ती आदि।

जैसे – मिठास, क्रोध, चढाई, उचाई, खटास, धर्म, थकावट, अपनापन, बुढ़ापा, जवानी, मोटापा, मित्रता, सुन्दरता, बचपन, परायापन, प्यास, भूख, मानवता, मुस्कुराहट, नीचता, चोरी आदि।

Bhav Vachak Sangya Example

  1. सुन्दरता सबसे अच्छी चीज़ मानी जाती है।
  2. मेरी आशा है की आप सब काफी उन्नति करें।
  3. हर व्यक्ति का एक न एक दिन बुढ़ापा आयेगा।
  4. वह बहुत ही कुशाग्र बालक है।
  5. जवानी का समय काफी कम दिन का होता है।
  6. दुनिया मे सबसे पावन चीज़ दोस्ती होती है।
  7. बचपन मे हम सब दोस्त थे।

तो ये सभी शब्द भाववाचक संज्ञा है जो कि किसी भाव का बोध कराती है। भाववाचक संज्ञाएं मुख्यतः दो प्रकार की होती है – 1) स्वतन्त्र, 2) परतन्त्र

  • स्वतन्त्र – भाववाचक संज्ञाओं मे द्वेष, सुख, ईर्ष्या, दुःख, लोभ इत्यादि को ही स्वतन्त्र भाववाचक संज्ञा कहते है। इसी कारण वाक्यों मे इसे स्वतन्त्र रूप मे प्रयोग किया जाता है।
  • परतन्त्र – कुछ एक भाववाचक संज्ञाओं का निर्माण व्यक्तिवाचक संज्ञा, जातिवाचक संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, अव्यय, क्रिया आदि मे आव, ई, ता, त्व, पन, आई इत्यादि प्रत्यय जोड़कर किया जाता है। इन्हें ही परतन्त्र भाववाचक संज्ञा कहते है।

Also See –

भाववाचक संज्ञा बनाने के नियम – Bhav Vachak Niyam

जातिवाचक संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण, क्रिया, अव्यय में ता, अ, पन, ई, आव, वट, य, आस, पा, हट, त्व आदि लगाकर भाववाचक संज्ञा में बदला जाता है।

भाववाचक संज्ञा बनाना

  • जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना
  • संज्ञा से भाववाचक बनाना
  • क्रिया से भाववाचक बनाना
  • विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना
  • अव्यय से भाववाचक बनाना
  • सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना

सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना

  • अहं – अहंकार
  • निज – निजत्व
  • स्व – स्वत्व
  • आप – आपा
  • पराया – परायापन
  • अपना – अपनापन/अपनत्व
  • माँ – ममता/ममत्व
  • पराया – परायापन
  • मम – ममत्व/ममता
  • सर्व – सर्वस्व

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

  • बच्चा – बचपन
  • घर – घरेलू
  • शैतान – शैतानी
  • गुरु – गुरुत्व
  • पुरुष – पुरुषत्व
  • युवक – यौवन
  • भाई – भाईचारा
  • दास – दासत्व
  • इंसान – इंसानियत
  • राष्ट्र – राष्ट्रीयता
  • मानव – मानवता
  • मनुष्य – मनुष्यता
  • दूत – दौत्य
  • नारी – नारीत्व
  • भाई – भाईचारा
  • ब्राह्मण – ब्राह्मणत्व
  • प्रभु – प्रभुता
  • पात्र – पात्रता
  • माता – मातृत्व
  • जाति – जातियता

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

  • बुद्धिमान – बुद्धिमानी
  • गंभीर – गंभीरता
  • गोरा – गोरापन
  • सम – समता
  • तेज – तेजी
  • हिंसक – हिंसकता
  • बेईमान – बेईमानी
  • गँवार – गँवारपन
  • सुखद – सुखदायी
  • एक – एकता
  • शांत – शांति
  • अमीर – अमीरी
  • क्रोधी – क्रोध
  • मूर्ख – मूर्खता
  • कायर – कायरता

संज्ञा से भाववाचक बनाना

  • गुरु – गुरुता
  • पशु – पशुत्व
  • ईश्वर – ईश्वर्य
  • नुष्य – मनुष्यता
  • वकील – वकालत
  • देव – देवत्व
  • लड़का – लडकपन
  • बूढ़ा – बुढ़ापा
  • पंच – पंचायत
  • राष्ट्र – राष्ट्रीयता
  • भार – भारीपन
  • माता – मातृत्व
  • नर – नरत्व
  • शिष्य – शिष्यत्व
  • पंडित – पांडित्य

अव्यय से भाववाचक बनाना

  • समीप – सामीप्य
  • धिक् – धिक्कार
  • मना – मनाही
  • पूर्ण – पूर्णता
  • परस्पर – पारस्पर्य
  • दूर – दुरी
  • निकट – नैकट्य

क्रिया से भाववाचक बनाना

  • कमाना – कमाई
  • लिखना – लेख
  • खेलना – खेल
  • लिखना – लिखावट
  • सींचना – सिंचाई
  • मरना – मरण
  • फैलाना – फैलाव
  • लड़ना – लड़ाई
  • भूलना – भूल
  • महकना – महक
  • बनाना – बनावट
  • भिड़ना – भिडंत
  • लुटाना – लूट
  • उड़ना – उड़ान
  • जितना – जीत

Bhav Vachak Sangya Worksheet

भाववाचक संज्ञा की नोट्स download करने के लिए आप नीचे दिए download button पर क्लिक करके आप इसके free मे download कर सकते है।

Also See – Sangya Kise Kahte Hai

Bhav Vachak Sangya Ke Udaharan – भाववाचक संज्ञा के 100 उदाहरण

इस भाग मे आपको भाववाचक संज्ञा के 100 उदाहरण दिया गया है। जिसके द्वारा आपको examples of bhav vachak sangya की काफी जानकारी प्राप्त होगी।

  • सशक्त लेखन मेरी ताकत है।
  • स्विट्ज़रलैंड की प्राकृतिक सुंदरता मेरे दिल को आकर्षित करती है।
  • सफलता को तैयारी पसंद है।
  • उसे युद्धक विमान से गिरने का बार-बार सपना आया।
  • उसका इतना बड़ा अहंकार था।
  • यह छात्रावास अपनी सख्ती के लिए जाना जाता है।
  • प्रेम बिना एक शब्द के अपने राज्य पर राज करता है।
  • ऐसी दयालुता मानव स्वभाव में आपके विश्वास को पुनर्स्थापित करती है।
  • किसी को भी उम्मीद नहीं थी कि उनका मोह बना रहेगा।
  • वह पागलपन के मुकाबलों से पीड़ित था।
  • मैं आपकी दयालुता के लिए अपना धन्यवाद व्यक्त करना चाहता हूं।
  • दौड़ना मेरे कुछ सुखों में से एक है।
  • सम्मान के स्थान पर उनका चित्र लटका हुआ है।
  • मुझे आशा है कि उन्हें वह मिलेगा जिसके वे हकदार हैं।
  • स्कॉटलैंड अपने आतिथ्य के लिए प्रसिद्ध है।
  • जब वह गलत होता है तो उसे स्वीकार करने की विनम्रता नहीं होती है।
  • उनके पास हास्य की अद्भुत भावना है।
  • शादी के अंत तक वह बुरी तरह आहत था।
  • यह एक ऐसा शानदार विचार था।
  • उसकी कई विशिष्टताओं में से एक किताब को खोलने से पहले उसे हमेशा सूंघना है।
  • उन्हें एक विशद कल्पना का आशीर्वाद प्राप्त था।
  • हजारों परिवार घोर गरीबी में जी रहे हैं।
  • वह किसी भी पुरुष को आकर्षित करने की शक्ति रखती है।
  • आपको अपने काम पर अधिक गर्व करना चाहिए।
  • उपन्यास वास्तविकता से पलायन प्रदान करते हैं।
  • मैं विश्राम के लिए मछली पकड़ने जाता हूँ।
  • परीक्षा के बाद, मुझे एक अविश्वसनीय राहत महसूस हुई।
  • स्वयं को क्षमा करना सबसे कठिन है।
  • यह रिश्तों की नाजुकता के बारे में एक फिल्म है।
  • क्या हमारे पास पसंद की कुछ स्वतंत्रता है?
  • उसने समूह के साथ घनिष्ठ मित्रता बनाई।
  • वह अपने मित्रों की उदारता से अभिभूत था।
  • मदर टेरेसा की अच्छाई हम सभी के लिए एक उदाहरण है।
  • वह अपने सहकर्मियों के बारे में गपशप फैला रहा था।
  • वह सहज अनुग्रह के साथ भीड़ में से निकली।
  • उसकी सभी ख़ासियतों के लिए, वह उसे काफी प्यारी लगती है।
  • उसने अपने गुस्से पर लगाम लगाने की कोशिश की।
  • अपनी ताकत को कम मत समझो।
  • पूरी टीम उनकी जीत का जश्न मना रही है।
  • उसे अच्छी शिक्षा का लाभ मिला।
  • एक नए विचार वाला व्यक्ति तब तक सनकी होता है, जब तक वह विचार सफल नहीं हो जाता।
  • अब जितनी बुरी किस्मत, उतना ही अच्छा समय।
  • उपलब्धि ही जीवन में वास्तविक सुख प्रदान करती है।
  • उसके पास न तो प्रतिभा है और न ही सीखने की इच्छा।
  • स्वास्थ्य के धन से ऊपर कोई धन नहीं है।
  • वह डर के मारे इधर-उधर भटक रहा है।
  • उन्होंने अपने देश की खातिर बहादुरी से लड़ाई लड़ी।
  • काश मैं किसी से बहुत ज्यादा प्यार कर पाता।
  • खिलाड़ियों में मोटिवेशन की कमी नजर आ रही है।
  • उन्होंने इस मामले पर कोई राय व्यक्त नहीं की।
  • क्या आप दर्द से पीड़ित हैं?
  • वह बस शांति से कुछ बियर पीना चाहता था।
  • वह उत्साह के साथ ऊपर-नीचे उछल रहा था।
  • पूरी परियोजना पूरी तरह से विफल रही।
  • मुझे तुम पर बहुत विश्वास है।
  • उसे ऊंचाई से डर लगता है।
  • यह सिर्फ एक हॉलिडे रोमांस था।
  • उन्होंने अफवाह पर विश्वास नहीं किया।
  • मुझे कल रात बिल्कुल भी नींद नहीं आई।
  • शोक संतप्त व्यक्ति को अपने दुख से उबरने के लिए समय की आवश्यकता होती है।
  • वह उन्हें हरा देगी।
  • मैं उसकी सफलता की खबर से खुश था।
  • लोगों का बैंक पर से विश्वास उठ गया है।
  • एलेक्स को डर था कि वह नीचे गिर जाएगा।
  • वह अनुग्रह और लालित्य के साथ एक दुबली-पतली महिला थी।
  • मेरे पास काम खत्म करने की ऊर्जा नहीं है।
  • उन्होंने खेल के प्रति अपना उत्साह खो दिया है।
  • उसकी नई कार उसके सभी दोस्तों से ईर्ष्या करती है।
  • मैं नहीं मानता कि मनुष्य स्वाभाविक रूप से दुष्ट हैं।
  • उसकी मूर्खता कभी-कभी विश्वास से परे होती है।
  • इस ऑपरेशन की सफलता दर बहुत कम है।
  • घोषणा पूर्ण आश्चर्य के रूप में आई।
  • मुझे उनसे ज्यादा सहानुभूति नहीं है।
  • जब उसके पति की मृत्यु हो गई तो वह दु: ख से दूर हो गई।
  • उन्होंने अपने जीवन में खुशी खोजने के लिए संघर्ष किया।
  • मुझे हवाई जहाज से यात्रा करने से नफरत है।
  • उसकी ईमानदारी के लिए उसकी प्रशंसा की जानी चाहिए।
  • अहंकार सफलता का सबसे बड़ा दुश्मन है।
  • यह बीमारी मेरी छुट्टियों की योजना को गड़बड़ कर देती है।
  • सैनिक ने युद्ध में बहुत साहस दिखाया।
  • वह गरिमा और शांत दृढ़ संकल्प के व्यक्ति हैं।
  • दयालुता एक ऐसी चीज है, जिसकी लगभग हर कोई सराहना करता है।
  • जैसे ही सूरज क्षितिज के नीचे डूबा, अंधेरा शहर के ऊपर आ गया।
  • मेयर का स्वागत करना मेरी खुशी है।
  • हमारी मित्रता हमेशा याद रहेगी।
  • पहलवानों ने अपार मजबूती का प्रदर्शन किया।
  • हमें मामले की सच्चाई का पता लगाना होगा।
  • मैरी गपशप करने वाले व्यक्ति का प्रकार नहीं है।
  • उसने ईर्ष्या में अपने दोस्त का नया खिलौना तोड़ दिया।
  • जब उनका पहला बच्चा पैदा हुआ तो वे खुशी से भर गए।
  • उसे लगा कि उसके परीक्षा परिणाम ने उसके साथ न्याय नहीं किया।
  • उनके पति के बारे में आपका क्या प्रभाव था?
  • उनकी हालत में अभी भी सुधार की गुंजाइश है।
  • शो के दौरान बच्चे ने अपनी गायन प्रतिभा दिखाई।
  • बीमारी से उबरने के बाद वह कमजोरी महसूस कर रहे थे।
  • व्यापक रूप से अटकलें लगाई जा रही थीं कि वह सेवानिवृत्त होने की योजना बना रहे हैं।

Bhav Vachak Sangya FAQ

Bhav Vachak Sangya Kise Kahate Hain?

जिस संज्ञा शब्द से किसी वस्तु के भाव, गुण, दशा या फिर अवस्था आदि का बोध होता है, उसे भाववाचक संज्ञा कहते है।

Bhav vachak sangya ke bhed?

भाववाचक संज्ञा के कोई भेद नहीं होते बल्की यह रूप के अनुसार बदली जाती है, जो इस प्रकार है-
-जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना
-विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना
-अव्यय से भाववाचक बनाना
-सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना
-संज्ञा से भाववाचक बनाना
-क्रिया से भाववाचक बनाना

तो आपको bhav vachak sangya In Hindi और bhav vachak sangya ki paribhasha की जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं तथा पोस्ट को शेयर भी जरूर करें।

Leave a Comment