Hindi Varnamala | Varn In Hindi (परिभाषा, भेद और उदाहरण )

Hindi Grammar के इस पोस्ट मे आपको Hindi Varnamala तथा Varnamala In Hindi के बारे मे परिभाषा, भेद और उदाहरण के साथ सारी जानकारी इसमे मिलेगी।

साथ मे इस पोस्ट की PDF भी इसमे दी गई है, जिसका प्रयोग आप अपने class के कार्य या फिर अगर आप सरकारी नौकरी की तैयारी करते है तो यह आपको बहुत मदद करेगी। इसमे मैने हर चीज़ को कम शब्दो मे अच्छे से समझाने का प्रयास किया है। तो चलिए जानके है वर्ण किसे कहते है?

Varn in Hindi

Hindi Varnamala In Hindi (वर्ण किसे कहते है?)

वर्ण की परीभाषा – वर्ण भाषा की सबसे छोटी इकाई होती है। वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं, जिसेक खण्ड नहीं किए जा सकते है। जैसे – ई, इ, आ, ओ, क्, ग्, द् इत्यादि।

प्रत्येक वर्ण की अपनी लिपि होती है। लिपि को वर्ण संकेत भी कहते है। हिन्दी में 52 वर्ण होते है। जैसे आम शब्द में तीन मूल ध्वनियाँ है – आ+म्+अ। इन्हीं अखण्ड मूल ध्वनियों को वर्ण कहते है।

वर्णमाला की परीभाषा – वर्णों के व्यवस्थित समूदाय या समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिन्दी वर्णमाला में वर्णों की गणना दो आधार पर की जाती है।

  • लेखन के आधार पर – लेखन के आधार पर वर्णों की संख्या 52 होती है। जिसमे 13 स्वर, 35 व्यंजन तथा 4 संयुक्त व्यंजन है।
  • उच्चारण के आधार पर – हिन्दी में उच्चारण के आधार पर वर्णों की संख्या 45 है, जिनमें 10 स्वर तथा 35 व्यंजन है।

इसे भी पढ़े – Paryayvachi Shabd List PDF

वर्ण के भेद (Varn Ke Bhed)

हिंदी वर्णमाला में दो प्रकार के वर्ण है – 1. स्वर तथा 2. व्यंजन

  • स्वर – अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, (ऋ), ए, ऐ, ओ, औ, (अं), (अः) [ कुल 10+3=13]
  • व्यंजन अक्षर निम्न प्रकार विभाजित किया गया है।
    • क वर्ग – क, ख, ग, घ, ङ
    • च वर्ग – च, छ, ज, झ, ञ
    • ट वर्ग – ट, ठ, ड, (ड़), ढ, ण
    • त वर्ग – त, थ, द, ध, न
    • प वर्ग – प, फ, ब, भ, म
    • अंतःस्थ व्यंजन – य, र, ल, व
    • ऊष्म व्यंजन – श, ष, स, ह
    • संयुक्त व्यंजन – क्ष, त्र, ज्ञ, श्र

स्वर किसे कहते है? Swar In Hindi

जिन वर्णों के स्वतंत्र रूप से बोला जाता है यानी उनको बोलने मे कोई रुकावट नहीं होती है उन्हे स्वर कहते है। इनकी संख्या 13 मानी गई है परन्तु उच्चारण के आधार पर स्वरो की संख्या 10 ही मानी जाती है। जो निम्न है।

अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, (ऋ), ए, ऐ, ओ, औ, (अं), (अः) [ कुल 10+3=13]

स्वर के बारे मे और पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें – CLICK HERE

व्यंजन किसे कहते है? (Vyanjan In Hindi)

वे वर्ण न ध्वनियाँ जो बिना स्वरों की सहायता से बोली या उच्चारित कि जाती है, उन्हें व्यंजन ध्वनियाँ कहते है। अन्य शब्दों ने, जिन वर्णों व ध्वनियों के उच्चारण मे हवा मुख द्वार से आबाध गति से नहीं निकलती है वरन् उसमें पूर्ण या अपूर्ण होता है, व्यंजन ध्वनियाँ कहलाती है।

जैसे – प= प्+अ, क= क्+अ।

व्यंजन शब्दो के नीचे (्) लगने से वह आधा माना जाता है। यहाँ यह भी ध्यान रहे की व्यंजन का उच्चारण के बिना संभन नहीं होता है। इसलिेए प्रत्येक व्यंजन के अन्त मे लगता ही है। हिंदी वर्णमाला मे व्यंजन की संक्या 33 मानी जाती है परन्तु ड़ तथा ढ़ के जुड़ने पर यह संक्या 35 हो जाती है।

  • क वर्ग – क, ख, ग, घ, ङ
  • च वर्ग – च, छ, ज, झ, ञ
  • ट वर्ग – ट, ठ, ड, (ड़), ढ (ढ़), ण
  • त वर्ग – त, थ, द, ध, न
  • प वर्ग – प, फ, ब, भ, म
  • अंतःस्थ व्यंजन – य, र, ल, व
  • ऊष्म व्यंजन – श, ष, स, ह
  • संयुक्त व्यंजन – क्ष, त्र, ज्ञ, श्र

व्यंजन के बारे मे और पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें – CLICK HERE

Hindi Varnamala Shabd

स्वरअ, आ, इ, ई, उ, ऊ, (ऋ), ए, ऐ, ओ, औ, (अं), (अः)
व्यंजनशब्द
क वर्गक, ख, ग, घ, ङ
च वर्गच, छ, ज, झ, ञ
ट वर्गट, ठ, ड, (ड़), ढ (ढ़), ण
त वर्गत, थ, द, ध, न
प वर्गप, फ, ब, भ, म
अंतःस्थ व्यंजनय, र, ल, व
ऊष्म व्यंजनश, ष, स, ह
संयुक्त व्यंजनक्ष, त्र, ज्ञ, श्र

Hindi Varnamala Images

Hindi Varnamala

Hindi Varnamala PDF (हिंदी वर्णमाला चार्ट PDF Download)

अगर आपको Hindi Varnamala की PDF download करना है तो आप इस लिंक पर क्लिक करके कर सकते है। बाकी इसकी और updated pdf जल्द ही अपडेट कर दिया जाएगा।

हिंदी भाषा का विकास

हिंदी भाषा का विकास संस्कृत भाषा से हुआ है अर्थात हिन्दी भाषा की जननी संस्कृत भाषा को ही माना जाता है। संस्कृत मे पालि भाषा से ही हिन्दी भाषा विकसित हुई है। इसमे यह पालि से प्राकृत, प्राकृत से अपभ्रंश, अपभ्रंश से अवहट्ठ और अवहट्ठ से हिन्दी, अतः फिर हिन्दी भाषा का विकास हुआ है।

यहाँ ध्यान रहे विश्व मे कुल 3000 भाषाओं को 13 परिवारों मे विभाजित किया गया है। जिसमे 4 भाषा परिवास भारत देश मे ही है- द्रविड़, भारोपीय, चीनी-तिब्बती व आस्ट्रिक परिवार। इसमे हिन्दी भाषा भारोपिय परिवार की भारतीय-ईरानी के शाखा के भारतीय आर्य उपशाखा की भाषा है।

आकृति व रूप के आधार पर हिन्दी वियोगात्मक भाषा भी कहलाती है।

इसे भी पढ़े – Sangya In Hindi

निष्कर्ष

तो इस पोस्ट मे आपने Hindi Varnamala, Varn In Hindi, Varn Ke Bhed आदि की जानकारी मिली। बाकी अगर आपको स्वर तथा व्यंजन वर्णों के बारे मे विस्तार से जानना है तो उनके नीचे ही लिंक दिया है जिसपर क्लिक करके आप उसको देख सकते है। बाकी पोस्ट को शेयर करना न भूलें।