जातिवाचक संज्ञा (परिभाषा, नियम एवं उदाहरण) Jativachak Sangya In Hindi Worksheet

Jativachak Sangya In Hindi: इस पोस्ट मे आपको Jativachak Sangya kise kahate hain तथा Jativachak Sangya Ke Udaharan के बारे मे सारी जानकारी दी गई है। इसी के साथ जातिवाचक संज्ञा किसे कहते है? इसकी भी पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट मे दी गई है।

आप मे से कई लोग को Jativachak Sangya ke bhed की जानकारी प्राप्त करना होता है, तो आप गुगल मे इसके बारे मे सर्च करते है तो मैने यह पोस्ट तैयार की है। जिससे की आपको बाद मे कोई परेशानी न हो तथा आपको इसकी जानकारी हमेशा रहे।

Jativachak Sangya In Hindi Paribhasha udahran

Jativachak Sangya Ki Paribhasha (जातिवाचक संज्ञा)

जातिवाचक संज्ञा परिभाषा – वह संज्ञा शब्द जिनसे किसी एक ही प्रकार की अनेक वस्तुओं का बोध होता है या कि वे संज्ञा शब्द जिनसे पूरी जाति का बोध होतो है, उसे ही जातिवाचक संज्ञा कहते है। जैसे- घर, पहाड़, शहर, पशु, नदी आदि।

यहाँ पहाड़ कहने से सभी तरह के पहाड़ का बोध होता है चाहे वह अलकनंदा हो या फिर कोई और, उसी प्रकार घर कहने से सभी प्रकार के घर का बोध होता है न कि किसी एक ही व्यक्ति विशेष का घर का बोध होता है। जैसे-

  • वस्तुओं के नाम – कुर्सी, पुस्तक, कलम, चाकू, मकान, मेज, सोफा इत्यादि।
  • व्यवसायों, कार्यों, पदों आदि नाम – माँ, मामा, डॉक्टर, मजदूर, अध्यापक, मन्त्री, अध्यक्ष, वकील, भाई, किसान, नेता इत्यादि।
  • प्राकृतिक तत्त्वों के नाम – वर्षा, बिजली, तूफान, ओला, वृष्टि, हिमपात, ज्वालामुखी, आँधी इत्यादि।
  • पशु-पक्षिओं के नाम – बैल, हिरण, तोता, मोर, मैना, कुत्ता, शेर, गधा, लोमड़ी, मेमना, हाथी, जिराफ, बुलबुल इत्यादि।

Jativachak Sangya Ke Udaharan

  1. नदी बह रही है।
  2. पक्षी चहचहा रहे है।
  3. पशु घास चर रहे है।
  4. रमेश घर जा रहा है।
  5. मोहन का घर सुन्दर है।
  6. वह कुर्सी पर बैठा है।
  7. क्या रमेश डॉक्टर है?
  8. तुम चाकू से गाजर काट दो।
  9. आज तूफान आयेगा।
  10. कहाँ पर ओला वृष्टि हुई है।

Also See-

जातिवाचक संज्ञा के भेद – Jativachak Sangya Ke Bhed

जातिवाचक संज्ञा को दो प्रकार में विभाजित किया है-

  • द्रव्यवाचक संज्ञा : जो शब्द किसी पदार्थ, धातु और द्रव्य को दर्शाते है उन्हें द्रव्यवाचक संज्ञा कहते है। उदाहरण के तौर पर गेहूं, चावल, चांदी, तांबा, घी, सोना, ऊन आदि।
  • समूहवाचक संज्ञा : जो संज्ञा शब्द से किसी भी व्यक्ति या वस्तु के समूह को दर्शाते है उन्हें समूहवाचक संज्ञा कहते हैं। उदाहरण के तौर पर सेना, पुस्तकालय, दल, समिति, पुलिस, आयोग, परिवार आदि।

जातिवाचक संज्ञा के 10 उदाहरण

  1. प्रदुषण के कारण मनुष्य में नई नई बीमारियों का जन्म हो रहा है।
  2. भारत देश में कई प्रकार के वस्त्र बनाए जाते है।
  3. गोदाम पूरे अनाज से भरा हुआ था।
  4. वसंतनगर छोटा शहर है।
  5. लक्ष्मी का घर नदी के पास है।
  6. हमें सभी सेहतमंद रहने के लिए घी पीना चाहिए।
  7. राधा को सोने की चीज़े बहुत पसंद है।
  8. मछली पानी के बिना एक पल भी नहीं जी सकती।
  9. अमिताभ बच्चन एक एक्टर है।
  10. सचिन तेंदुलकर एक प्रसिद्ध क्रिकेटर हैं।

JatiVachak Sangya Worksheet

जातिवाचक संज्ञा की नोट्स download करने के लिए आप नीचे दिए download button पर क्लिक करके आप इसके free मे download कर सकते है।

Jativachak Sangya FAQ

जातिवाचक संज्ञा के कितने भेद होते हैं?

जातिवाचक संज्ञा को दो प्रकार में विभाजित किया है-
1.द्रव्यवाचक संज्ञा
2.समूहवाचक संज्ञा

Jati vachak sangya ke 5 udaharan?

लक्ष्मी का घर नदी के पास है।
कहाँ पर ओला वृष्टि हुई है।
तुम चाकू से गाजर काट दो।
आज तूफान आयेगा।
वसंतनगर छोटा शहर है।

तो आपको Jativachak Sangya In Hindi और Jati vachak Sangya ki paribhasha की जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं तथा पोस्ट को शेयर भी जरूर करें।

Leave a Comment