उपमा अलंकार की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण Upma Alankar Ke Udaharan, Paribhasha

Hindi Grammar के इस पोस्ट मे आपको Upma Alankar Ki Paribhasha की जानकारी दी गई है साथ मे Upma Alankar In Hindi तथा Upma Alankar Ke Udaharan आदि की पूरी जानकारी आपको इस पोस्ट मे दी गई है।

क्योंकि उपमा अलंकार किसे कहते हैं? आदि के बारे मे छात्र लोग इंटरनेट पर काफी ज्यादा सर्च करते है, तो उन्ही के लिए मैने यह पोस्ट तैयार की है। जिसको पढ़ने के बाद मुझे यकीन है कि आपको उपमा अलंकार याद हो जाएगा और ये आपकी आने वाली SSC, UPSSSC PET आदि की परीक्षाओं मे भी काफी ज्यादा मदद करेगा।

Upma Alankar Ke Udaharan Paribhasha
उपमा अलंकार

Upma Alankar Ki Paribhasha – Upma Alankar In Hindi

उपमा अलंकार की परिभाषा – समान धर्म के आधार पर जिस एक वस्तु की समानता या तुलना की जाए, किसी दूसरी वस्तु से, वहाँ उपमा अलंकार होता है। हिंदी व्याकरण मे उपमा अलंकार के चार अंग होते है-

  • उपमेय – वर्णनीय वस्तु जिसकी उपमा या फिर समानता दी जाती है, उस वस्तु को उपमेय कहते है।
    • जैसे- सरीता का मुख चन्द्रमा के समान सुन्दर है। (इस वाक्य मे मुख की चन्द्रमा से समानता बताई गई है, अतः मुख उपमेय है।)
  • उपमान – जिससे उपमेय की समानता या तुलना की जाती है, उसे उपमान कहा जाता है।
    • मुख की समानता चन्द्रमा से की गी है, अतः उपमान चन्द्रमा है।
  • साधारण धर्म – जिस गुण के लिए उपमा दी जाती है, उसे साधारण धर्म कहा जाता हैं।
    • तो उदाहरण से ज्ञात होता है कि सुन्दरता के लिए उपमा दी गई है, अतः सुन्दरता साधारण धर्म है।
  • वाचक शब्द – जिस शब्द के द्वारा या फिर सहायता से उपमा दी जाती है, उसे वाचक शब्द कहा जाता हैं।
    • उदाहरण से ज्ञात है कि, समान शब्द वाचक है। इसी तरह जैसा, सा, ऐसा, सदृश आदि भी वाचक होते है।

उपमा अलंकार के भेद – Upma Alankar Ke Bhed

अलंकार मे मूलतः उपमा अलंकार के कुल तीन भेद होते है-

  1. पूर्णोपमा
  2. लुप्तोपमा
  3. मालोपमा

1) पूर्णोपमा – जहाँ उपमा के चार अंग विद्यामान है, वहाँ पूर्णोपमा अलंकार होता है। जैसे –

प्रातः नभ था बहुत नीला शंख जैसे।

इस काव्य पंक्ति में, प्रातः कालीन नभ उपमेय है, शंख उपमान है, नीला साधारण धर्ण है और जैसे वाचक शब्द है। तो यहाँ चारो अंग है, इसलिए यहाँ पर पूर्णोपमा अलंकार है।

2) लुप्तोपमा – जहाँ उपमा के एक या अनेक अंगों का अभाव हो, वहाँ लुप्तोपमा अलंकार होता है। जैसे –

मखमल के झूले पड़े, हाथी सा टीला।

3) मालोपमा – जिस किसी कथन में एक ही उपमेय की अनेक अपमान है, वहाँ मलोपमा अलंकार होता है। जैसे-

काम-सा रूप, प्रताप दिनेश-सा
सोम सा सील है राम महीप का।

इसमे राम उपमेय है, किन्तु उपमान, साधारण धर्म और वाचक शब्द तीन हैं- काम सा रूप, दिनेश सा प्रताप और सोम सा शील। अतः यहाँ पर मालोपमा माना जाएगा।

उपमा अलंकार के उदाहरण (Upma Alankar Ke Udaharan)

इसमे मैने उपमा अलंकार के 5 उदाहरण दिया है, जिसके द्वारा आपको इसकी पहचान करना आ जाएगा, साथ ही आपको परीक्षा मे इसे खोजने मे आसानी होगी। बाकी Upma Alankar In Hindi की जानकारी को आप पूरा जरूर पढ़ें।

पंक्तिपहचान
उतर रही है संध्या सुंदरी परी सीसंध्या को परी के रूप में चित्रित किया गया है।
लघु तरनि हंसिनी सी सुन्दरनदी के तट को हंस के समान बताया गया है।
सिंधु सा विस्तृत और अथाह एक निर्वासित का उत्साहनिर्वाचित होने के उत्साह को सिंधु नदी के समान बताया गया है।
चाँद की सी उजली जालीचांद के समान उजला बताया गया है।
वह दीपशिखा सी शांत भाव में लीनदीप से उठने वाली ज्वाला के समान शांत बताया गया है।
मखमल के झूले पड़े हाथी सा टीलाटीले की तुलना हाथी जानवर से की गई है।
हाय फूल सी कोमल बच्ची , हुई राख की ढेरी थी।बच्ची की कोमलता फूल के समान की गई है।

उपमा अलंकार का 10 उदाहरण

  1. मखमल के झूले पड़े हाथी सा टीला
  2. तब बहता समय शिला सा जम जायेगा
  3. सहसबाहु सम रिपु मोरा।
  4. नभ मंडल छाया मरुस्थल सा दल बाँध के अंधड़ आवे चला।
  5. कमल सा कोमल गात सुहाना
  6. कोटि कुलिस सम वचन तुम्हारा।
  7. हाय फूल सी कोमल बच्ची , हुई राख की ढेरी थी।
  8. यह देखिये , अरविन्द – शिशु वृन्द कैसे सो रहे।
  9. मुख बाल रवि सम लाल होकर ज्वाला – सा हुआ बोधित।
  10. नदियां जिनकी यशधारा सी बहती है अब निशि -वासर

Upma Alankar FAQ

उपमा अलंकार के कितने भेद हैं?

उपमा अलंकार के कुल तीन भेद होते है-
– पूर्णोपमा
– लुप्तोपमा
– मालोपमा

उपमा अलंकार के 5 उदाहरण?

1) पीपर पात सरिस मन डोला
2) एही सम विजय उपजा न दूजा
3) चाँद की सी उजली जाली
4) उतर रही है संध्या सुंदरी परी सी
5) वह दीपशिखा सी शांत भाव में लीन

Upma alankar kise kahate hain udaharan sahit?

जब किन्ही दो वस्तुओं की उनके एक सामान धर्म की वजह से तुलना की जाती है तब वहां उपमा अलंकार होता है।
उदाहरण – पीपर पात सरिस मन ड़ोला।

तो आपको Upma Alankar Ke Udaharan, upma alankar ki paribhasha, Upma Ke Bhed की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं तथा कोई प्रश्न हो तो नीचे कमेंट जरूर करें, बाकी पोस्ट को शेयर करना न भूलें।

इन्हे भी पढ़ें –

Leave a Comment