vpi full form in hindi

VPI Full Form In Hindi, VPI Kya Hota Hai?

क्या आपको पता है ही VPI Kya Hai? तथा VPI Full Form In Hindi And English मे अगर आपको नहीं पता है, तो इस पोस्ट मे आप जानेंगे VPI के बारे मे। आपको इसको पढ़ने के बाद कहीं और जाने की कोई जरूरत नहीं होगी।

vpi full form in hindi

VPI Full Form In Hindi And English

तो VPI full form “Virtual Patg Identifier” होता है, जिसका Hindi में VPI ka full form “आभासी पथ पहजानकर्ता” है। यहाँ आप यह जान लीजिए की, VPI का प्रयोग ATM cell के header में 8bit field मे होता है। इसका काम data communication identifier के रूप मे होता है।

जो जानकारी पैकटो के रूप मे आती है उनके लिए सही रास्ता चुनने का काम और बताने का काम VPI ही करता है।

इसे भी पढ़े- CLAT Ka Full Form

VPI Kya Hai?

पहले बात यह की VPI, ATM cell के हेड में 8 bit field मे होता है। जहाँ इसका प्रयोग data comunication identifier के रूप मे होता है और यह सभी जानकारीयों को packets को transfer करने के लिए virtual network path बनाता है जिससे सुचना का संचरण सही जगह पर किया जाये।

तो दोस्तो वीपीआई का प्रयोग use cell के मार्ग (destication) की पहचान करने के लिए किया जाता है। इस तरह जब कोई ATM cell किसी नेटवर्क पर जाना है, जो कि ATM switch से गुजरता है। यह VPI स्विच को बताता है कि जानकारी, जो उसे प्राप्त हुई हो, के उस पैकेट को किसा पर रखा जाना है औऱ कहाँ भेजना है।

इन सब के रास्ते को पहचान कर जानकारी को सही जगह पहुंचाने का काम VPI करता है क्योंकि यह Virtual Path Indentifier है जिसका काम होता है की आभासी रूप मे जो सही रास्ता है वह उसकी पहचान करके। उस पैकेट को सही जगह पहुँचाए।

वर्चुअल पथ पहचानकर्ता एक प्रकार के डाटा संचार को identify यानी पहचान करने वाली उक्ती है। जो विशिष्ट रूप से डाटा को गंतव्य नोड तक पहुंचाने का काम अतुल्यकालिक स्थानांतरण मोड सेल पैकेटों के लिए सही नेटवर्क पथ की पहचान करने के लिए होता है।

यहाँ आपने एक और शब्द ATM शब्द को सुना तो यहाँ मै बता दूँ कि यह पैसे निकालने वाला एटीएम नहीं है। बाकि ये क्या है इसको मैने आगे बताया है। बाकी अगर आपने VPI Full Form नहीं देखा तो उसे जरूर देखें।

इसे भी पढ़े-1M Means In Hindi

ATM Kya Hai In Hindi

यह एक स्विचिंग तकनीक की उक्ति है, जो डाटा संचार के लिए टाइम डिवीजन मल्जीप्लेक्सिंग की सहायता ले कर काम करती है। यह एक रूप से नेटवर्क तकनीक है जो आवाज, वीजियो और डेटा संचाक करती है। यह डेटा के छोटे पैकेट को छोटे आकार की कोशिकाओं मे एनकोड कर देता है। जिससे वे टीडीएम के लिए सही से काम करें और उन्हे आसानी से भौतिक माध्यम पर स्थानांतरित किया जा सके।

ATM की प्रमुख विशेषताएं

  • ATM के हैडर आकार मे छोटे होते है इस लिए इनके 5 बाइट्स के छोटे आकार के पैकेट ही, पैकेट अधिभार को कम करने का काम करते है। जिससे प्रभावी बैंडविड्थ उपयोग सुनिश्चित होता है।
  • एटीम के सेल तीन आकार के होते है, जिसमे 5 बाइट्स, 48 बाइट्स तथा 53 बाइट्स के पेलोड होते है पैकेटों के रूप में। इनके दो अलग-अलग सेलों के प्रारूप होते है जोकि Network Network Interface और User Network Interface होते हैं।
  • यह बहुत गतिशील होती है क्योंकि ATM गतिशील (तेज़) बैंडविड्थ का प्रयोग करती है। जिससे इसको बर्फीले यातायात मे भी कोई समस्या नहीं होती है।
  • इसमे एसिक्रोनस का तात्पर्य यह है कि कोशिकाओं को हमेशा संक्रमणीय रेखाओं की तरह प्रेषित करने की कोई जरूरत नहीं होती है। इसलिए सेलों को तभी भेजा जाता है जब कोई डेटा यहाँ से भेजा जाता है।

Conclusion

तो आपको VPI Full Form In Hindi पोस्ट कैसा लगा जरूर बताएं तथा इसके बारे मे मैने आपको पूरी जानकारी देदी है। इसी तरह की और जानकारी को प्राप्त करने के लिए मेरी इस वेबसाइट से जुड़ें। धन्यवाद…